”मौत के 7 दिन बाद बेटे ने सपने में कब्र से निकालने की लगाई गुहार, कही ये बात…

नई दिल्ली:उत्तर प्रदेश के हाथरस अंतर्गत नगला चौबे में 29 जून को एक युवक की सांप के काटने से मौत हो गई, शव को दफना दिया गया, लेकिन अभी मृत्यु को 7 दिन भी नहीं हुए थे कि मृतक की मां को बेटे के  जिंदा होने का सपना आया, मां की ज़िद के आगे प्रशासन भी नरम पड़ गया, और शव को निकालने के लिए कब्र की खुदाई की गई। प्रशासन की अनुमति के बाद पोखर की खुदाई JCB सें की गई। गड्ढे में खुदाई के दौरान पानी भर गया, बड़ी मुश्किल से पानी को हटा कर आगे खुदाई हुई। कब्र की खुदाई में जो दिखा उसे देख कर वहां मौजूद लोग हैरान रह गए

कैसे हुई मौत ? – 
आपको बतादें हाथरस के कोतवाली सदर इलाके में स्थित गांव नगला चौबे में 18 वर्षीय योगेश, पुत्र जितेंद्र 29 जून की रात में अपने घर पर सोया हुआ था तभी उसे सांप ने डस लिया। जब सांप के डसने की जानकारी परिजनों को हुई, तो पीड़ित को लेकर परिजन जिला अस्पताल पहुंचे। अस्पताल में डॉक्टरों ने सांप का ज़हर फैलने से उसकी मृत्यु होना बताया। लेकिन परिजनों को तसल्ली नहीं हुई, उन्होंने झाड़फूंक के लिए कई दरवाजों को खटखटाया, पर सभी ने बेटे को मृत घोषित कर दिया। अंत में परिजनों ने दुखी मन से शव को गांव के नज़दीक हाथरसी देवी के मंदिर के पास स्थित सूखे तालाब में गड्ढा करके दफना दिया।

मौत के 2 दिन बाद आया मां को सपना, बोलामैं जिंदा हूं
मृतक की मां दुख में डूबी थी तभी मां केला देवी को 2 दिन बाद बेटा सपने में दिखा और अपने ज़िंदा होने की बात कह कर गड्ढे से निकालने की बिनती की। मां के सपने वाली बात पर किसी ने भरोसा नहीं किया। मृतक के ज़िंदा होनें का सपना मोहल्ले के कई युवाओं और महिलाओं ने भी देखने की बात कही। इतना ही नहीं पीड़ित परिवार के दर्जनभर लोगों ने भी वही सपना देखने की बात कही। मां के लिए तो ये और भी परीक्षा की घड़ी थी। लेकन ममता के आगे सभी सरेंडर हो गए। अंत में प्रशासन की अनुमति से गड्ढा खोदा गया।

डीएम की अनुमति के बाद शव को कब्र से निकाला गया-
पूरे परिवार को लगा यदि सभी ने सपना देखा है तो हो सकता है उनका लाड़ला फिर वापस आ जाए। लोगों ने कलेक्टर कार्यालय में शव को निकालने की अर्जी लगाई, अनुमति के बाद कब्र को खोदा गया, परिजनों ने जिस जगह बेटे का शव दफनाया था वहां पानी भर गया, आनन-फानन में पानी निकाल कर जेसीबी से गड्ढे की  खुदाई की गई, जब शव बाहर निकाला गया तो बॉडी बुरी तरह फूल गई थी, अंत में दुखी परिजनों ने फिर से बटे के शव को दफना दिया। 

About Author

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *