Chanakya Niti: स्त्रियां होती हैं ऐसे पुरुषों की दीवानी, जिनमें होते हैं ये गुण

Chanakya about husband

Chanakya about husband

Chanakya Niti: राजनीति और कूटनीति के महाविद्वान आचार्य चाणक्य ने पुरूषो के गुणों के बारे में ऐसी ऐसी बातें बताई है की अगर पुरुष इन बातों को अपने में समा ले तो स्त्री उससे पूरी तरह संतुष्ट रहने से खुद को नहीं रोक सकती | आचार्य चाणक्य ने पुरूषो के गुणों की तुलना कुत्ते के गुणों से करते हुए बताया है कि अगर पुरुष कुत्तों के इन गुणों को अपना ले तो उसकी पत्नी उससे कभी नहीं रूठ सकती | चाणक्य ने अपनी निति में ऐसे गुणों वाले पुरुषो के लिए बताया है कि ऐसे पुरुष परिवार में खुशी को बनाये रहते हैं और सम्पन्नता बनाये रखते हैं |

Chanakya Niti

चाणक्य के द्वारा बताये गए कुत्तों के वो गुण जो हर पुरुष में होने चाहिए
आचार्य चाणक्य ने कई जानवरों के गुणों के आधार पर मनुष्यों को जीवन का सार समझाने की कोशिश की है | चाणक्य के अनुसार हर जानवर से इंसान को कुछ न कुछ सीख लेनी चाहिए | चाणक्य अपनी निति में कहते हैं कि स्त्रियों को एक कौए के समान और पुरूष को एक कुत्ते के समान होना चाहिए | चाणक्य बताते है पुरुष को एक कुत्ते गुणों को अपनाना चाहिए, आइये बताते हैं की वो कौन कौन से गुण हैं जो आचार्य चाणक्य अपनी निति में पुरुषो के लिए बताते हैं |

  1. थोड़े में संतोष करना – चाणक्य कहते हैं जैसे एक कुत्ता जितना खाना दो, उतने में ही संतुष्ट रहता है, उसी तरह एक पुरुष को भी जितना प्यार से मिले, उसी में संतोष करना चाहिए | पुरुष जो काम कर रहा है और काम के बाद जो धन मिले उसी में खुश रहना चाहिए | मेहनत से कमाए गये धन में ही अपने परिवार का पालन पोषण करना चाहिए | जो पुरुष इस गुण को अपनाता है वो एक सर्वश्रेष्ठ पुरुष होता कहलाता है |
  2. सतर्कता – चाणक्य कहते हैं पुरुष को कुत्तों की तरह सतर्क रहना चाहिए जैसे कुत्ते गहरी नींद में भी सतर्क होते हैं, बिल्कुल वैसे ही पुरुष को भी अपने परिवार-स्त्री और कर्तव्यों को लेकर सतर्क होना चाहिए | ऐसे गुण वाले पुरुष से शादी करने वाली महिला हमेशा खुद को भाग्यशाली समझती है |
  3. वफादार – चाणक्य कहते हैं कि पुरुष को बफादारी का सबक एक कुत्ते से लेना चाहिए | जैसे एक कुत्ता अपने मालिक के लिए हमेशा बफादार रहता है उसी तरह एक पुरुष को भी अपने परिजनों और अपनी पत्नी के लिए रहना चाहिए | जिस पुरुष में कुत्ते की तरह वफादारी का गुण हो उसकी स्त्री हमेशा उससे खुश रहती है |
  4. वीरता – चाणक्य बताते हैं जैसे कुत्ता भी एक वीर प्राणी है जो अपने मालिक के लिए जान भी दे सकता है, उसी प्रकार एक पुरुष को भी वीर होना चाहिए, जरुरत पड़ने पर अपनी स्त्री के लिए जान दाव पर लगा देने से भी पीछे नहीं हटना चाहिए | ऐसे गन वाले पुरुष भाग्यशाली महिला को ही मिलते हैं |
  5. संतुष्ट रखना – चाणक्य कहते हैं कि सर्वश्रेष्ठ पुरुष वही है जो अपनी स्त्री को हमेशा संतुष्ट रखता है | और बताया है कि अपनी स्त्री के भी सभी तार्किक बातों को सुनना चाहिए और भावनात्मक रुप से भी अपनी स्त्री को संतुष्ट रखना चाहिए | ऐसे गुण वाला पुरुष हमेशा अपनी स्त्री का प्रिय बना रहेगा और रिश्ता सुगमता से चलता रहेगा |

About Author

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *