New Inventions: पृथ्‍वी पर आया था अंतरिक्ष से पानी, वैज्ञानिकों ने किया बड़ा दावा

invention of water on earth

invention of water on earth





New Inventions: पृथ्वी पर आमतौर पर मिलने वाले पानी के बारे आप क्या सोचते हैं की क्या पृथ्वी पर यह पानी पहले से ही मौजूद था, अगर आपसे कहा जाए कि पृथ्‍वी पर पानी बाहर से यानी अंतरिक्ष से आया है, यकीन करेंगे? रिसर्चर्स लंबे समय से कहते आ रहे हैं कि पृथ्‍वी पर पानी बाहर से आया हो सकता है । शुक्रवार को एक बार फ‍िर वैज्ञानिकों ने यह बाद फिर कही इसके सही होने के बारे में कुछ तथ्‍य भी पेश किए । वैज्ञानिकों ने रिसर्च के आधार पर बताया कि पृथ्वी से लगभग 30 करोड़ किलोमीटर दूर स्थित एक एस्‍टरॉयड की जांच में मिले धूल के कणों में हैरान करने वाले कॉम्‍पोनेंट का पता लगा है । आपको बता दें कि यह स्‍टडी साइंस जर्नल में पब्लिश होने वाली है ।

study says water on earth came when

तोहोकू यूनिवर्सिटी के वैज्ञानिकों ने किया दावा
तोहोकू यूनिवर्सिटी के प्रमुख वैज्ञानिक तोमोकी नाकामुरा ने शुक्रवार को पत्रकारों से कहा पानी की इस बूंद का बहुत बड़ा अर्थ है, उन्‍होंने कहा, ‘कई रिसर्चर्स का मानना ​​है कि पानी बाहर से लाया गया था, लेकिन हमने यक़ीनन पहली बार एक एस्‍टरॉयड रयुगु में पानी की खोज की । एस्‍टरॉयड रयुगु से लाए गए सैंपल से और कई जानकारियां भी रिसर्चर्स को मिली हैं । उन्होंने बताया है कि इनमें कार्बनिक पदार्थ भी शामिल हैं । नाकामुरा कहते हैं कि रिसर्चर्स को रयुगु के सैंपल्‍स लिक्विड पदार्थ की एक बूंद मिली ‘जो नमक और कार्बनिक पदार्थों से युक्त कार्बोनेटेड पानी था’। और हमारी रिसर्च से इस सिद्धांत को बल मिलता है कि रयुगु जैसे एस्‍टरॉयड या इसके बड़े मूल एस्‍टरॉयड और पृथ्वी के बीच टकराव ने पानी को दिया होगा ।

study says water on earth came when

एस्‍टरॉयड रयुगु में कार्बनिक पदार्थ मिलने की हुई पुष्टि
आपकी जानकारी के लिए बता दें कि तोहोकू यूनिवर्सिटी के प्रमुख वैज्ञानिक तोमोकी नाकामुरा की टीम में लगभग 150 रिसर्चर हैं जिनमे अमेरिका, ब्रिटेन, फ्रांस, इटली और चीन से भी 30 रिसर्चर शामिल हैं । सैंपलों को टीमों में अलग-अलग बांटा गया है जिससे बेहतर रिसर्च हो सकें और इस बात का सही पता लगाया जा सके | इस पर रिसर्चर्स के एक समूह ने कहा था कि उन्हें रयुगु में कार्बनिक पदार्थ मिला है, जिससे पता चलता है कि पृथ्वी पर जीवन के कुछ बिल्डिंग ब्‍लॉक्‍स, अमीनो एसिड अंतरिक्ष में भी कहीं बने हो सकते हैं । वैज्ञानिकों ने कहा था कि एस्‍टरॉयड रयुगु के सैंपल इस बात पर रोशनी डाल सकते हैं कि अरबों साल पहले पृथ्वी पर पानी कैसे आया होगा |

About Author

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *