पाकिस्तान युद्ध में काम आने वाले हथियार क्या खुद बनाता है? जाने इसकी पूरी डिटेल

Pakistani Weapons

Pakistani Weapons

आपको यह बात जानकर अपने देश भारत पर गर्व होगा कि मेड इन इंडिया हथियारों और मिलिट्री यंत्रों की मांग तेजी से बढ़ रही है | भारतीय हथियारों जैसे ब्रह्मोस, पिनाका, तेजस को लेकर दुनिया भर में इंट्रेस्ट बढ़ता जा रहा है | इसके चलते डील भी होने की संभावना है | ऐसे में क्या हमारा पड़ोसी और नापाक हरकतों को अंजाम देने वाला देश पाकिस्तान भी हमारे देश की तरह अपने हथियार खुद बनाता है, या फिर चीन या अमेरिका से ही इन्हे खरीदता रहता है | आज हम आपके सामने पाकिस्तान के पास ऐसे कौन से हथियार हैं, जिन्हें वह खुद बनाता है, या फिर किसी विदेशी कंपनी से लाइसेंस लेकर बना रहा है, इसकी पूरी लिस्ट लेके आये हैं |

Pakistan’s main fighter jet JF-17 which it has built with the help of China

मेड इन पाकिस्तान का जेएफ-17 थंडर फाइटर जेट
पाकिस्तान सीएसी/पीएसी जेएफ-17 थंडर फाइटर जेट को अपने यहां चीन की कंपनी की मदद से बनाता है | इस लड़ाकू विमान को बनाकर पाकिस्तान अपने पुराने ए-5सी, एफ-7पी/पीजी, मिराज-3, मिराज-4 जैसे फाइटर जेट्स की फ्लीट को बदल रहा है | हालांकि आपको बता दें कि जेएफ-17 थंडर चौथी पीढ़ी का फाइटर जेट है, जो भारत के LCA Tejas और Rafale के आगे नहीं टिक सकता |

Pakistan MFI-17 Mushshak

पाकिस्तान का MFI-17 मुशशक
इसके अलावा पाकिस्तान स्वीडन की कंपनी साब के सफारी ट्रेनर विमान के वैरिएंट पीएसी सुपर मुशशक को भी बनाता है | यह प्रशिक्षण विमान है | इसके अलावा MFI-17 मुशशक बनाता है | पाकिस्तान के पास लाइट अटैक फाइटर जेट हैं, जिसका नाम है के-8 काराकोरम | चीन की मदद से इसे बनाया है | क्योंकि यह विमान चीन के होंग्दू जेएल-8 का वैरिएंट है | यानी चीन के पास खुद का बनाया हुआ कोई विमान नहीं है जोकि दूसरे देश की तकनीक पर निर्भर है |

Battle drone named NASSCOM Burak

पाकिस्तान बना रहा ड्रोन्स/UAV
आपको बता दें कि पाकिस्तान के पास नेसकॉम बुराक नाम का युद्धक ड्रोन है | यह जंग के मैदान में चुपके से तबाही मचाने के लिए बनाया गया है | इसके अलावा सेलेक्स ईएस फाल्को, जीआईडीएस शाहपुर, जीआईडीएस शाहपुर-2 और जासूस ड्रोन बनाए जा रहे हैं | इसके अलावा पाकिस्तान के पास एक कम दूरी का ड्रोन है जिसका नाम है मुखबर | यानी बुराक को छोड़कर सभी ड्रोन्स सिर्फ जासूसी और निगरानी के लिए तैयार किये गये हैं |

Main Battle Tank / Armored Personal Carrier

मुख्य युद्धक टैंक/बख्तरबंद पर्सनल कैरियर
आपको बता दें कि पाकिस्तान के पास दो मुख्य युद्धक टैंक्स हैं | जिन्हें वह खुद बनाता है | जिनमे से पहला है एमबीटी-2000 का वैरिएंट अल-खालिद और अल-खालिद 1 और दूसरा चीन के टाइप 59 का अपग्रेडेड टैंक अल-जरार है | यानी सिर्फ दो ही प्रमुख युद्धक टैंक्स पाकिस्तान के पास मौजूद हैं | लेकिन ये भारतीय सेना के अर्जुन और भीष्म टैंक्स के सामने कुछ भी नहीं हैं | पाकिस्तान के पास बख्तरबंद पर्सनल कैरियर की पूरी लंबी लिस्ट है, जिनमे तल्हा, साद, साक्ब, अल-हमजा, ये ऐसी गाड़िया हैं जो सैनिक युद्धक्षेत्र में सुरक्षित आ-जा सकती हैं | साथ ही हमला भी कर सकते हैं | इनके अलावा माज, मौज, अल-हदीद, अल-कासवा और मोहाफिज जैसी गाड़ियों का इस्तेमाल किसी भी जमीनी लड़ाई या ऊंचाई वाले इलाके में किया जाता है |

Pakistan’s ships and submarines

पाकिस्तान के पोत और पनडुब्बियां
पाकिस्तान के पास चीन के टाइप 053एच3 फ्रिगेट की नकल करके बना हुआ एफ-22पी जुल्फिकार क्लास फ्रिगेट है | इसके अलावा माइन काउंटरमेजर के लिए मुंसिफ कलास का पोस है, जिसे पाकिस्तान ने फ्रांस की मदद से बनाया है | इसके अलावा पाकिस्तान के पास फास्ट अटैक क्राफ्ट्स हैं | जो वह खुद बनाता है | इसका नाम है अजमत क्लास युद्धपोत | यह चीन के टाइप 03711 हुईजान क्लास मिसाइल बोट पर आधारित है | इसके अलावा मिसाइल बोट्स हैं | जलालत 2 क्लास और जुर्रत क्लास मिसाइल बोट्स, ये सब पाकिस्तान में बनते हैं | इनके अलावा पाकिस्तान में अगोस्टा 90बी क्लास सबमरीन भी फ्रांस की मदद से बनाई जाती है |

made in pakistan missiles

मेड इन पाकिस्तान मिसाइलें
आपको बता दें कि पाकिस्तान के पास मिसाइलों और रॉकेट लॉन्चर्स की भी लंबी लिस्ट हैं | इसमें ज्यादातर छोटे और मीडियम रेंज की मिसाइलें हैं | इनका उत्पादन पाकिस्तान में ही होता है | इनके नाम हैं- अंजा मैनपैड्स, बर्क, बख्तर शिकन, बाबर यानी हत्फ-6, हत्फ-7, गौरी, शाहीन, जर्ब, गजनवी, अब्दाली, नस्र, अबाबील और हर्बा | इनमें से बाबर, हत्फ, गौरी, शाहीन, गजनवी के शॉर्ट और मीडियम रेंज की अलग-अलग मिसाइलें पाकिस्तान के पास हैं |

Infantry Weapons/Small Arms of Pakistan

पाकिस्तान के इंफ्रैन्ट्री हथियार/छोटे हथियार
क्लोज कॉम्बैट के लिए पाकिस्तान में कई छोटे हथियार बनाये जाते हैं | हालांकि पाकिस्तान में कई छोटे हथियारों की अवैध मंडियां भी लगती हैं | सरकारी तौर पर जो बंदूके, असॉल्ट राइफल्स बनती हैं, वो हैं- HK-G3, G3A3, G3P4, POF PK-8, POF PK-7 असॉल्ट राइफल्स | HK MP5 सब मशीन गन और उसके पांच वैरिएंट्स बनते हैं | इसके अलावा POF PK-9, POF PK-10, POF PKL-30 पिस्टल भी शामिल हैं | पाकिस्तान कुछ स्नाइपर राइफल्स और मशीन गन भी बनाता है | ये हैं- जर्मनी के हेकलर एंड कोच एमएसजी-90 का पाकिस्तानी वर्जन पीएसआर-90 स्नाइपर राइफल, रीनमेटल एमजी 3 मशीन गन, टाइप 54 मशीन गन, एचएमजी पीके 16 हैवी मशीन गन, पीओएफ आई, अज्ब डीएमआर एमके1 सेमी ऑटोमैटिक स्नाइपर राइफल और लाइट स्नाइपर राइफल | इनमें से ज्यादातर किसी न किसी बाहरी देश के बनाए गए बंदूक की नकल लाइसेंस के तहत पाकिस्तान बना रहा है |

About Author

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *