क्या है NO Cost EMI, ये काम कैसे करता है? जानिए इसके फायदे और नुकसान

no cost Emi

No Cost EMI

No Cost EMI

NO Cost EMI: हमें अगर त्योहारों में शॉपिंग करनी होती है तो हम फेस्टिव सीजन सेल (Festive season sale) का इंतजार करते हैं। क्यों कि कंपनियां फेस्टिव सीजन सेल में प्रोडक्ट्स पर भारी डिस्काउंट (Discount) देती हैं। और अगर हम प्रोडक्ट को EMI पर लेते हैं तो हमें एक और ऑप्शन मिलता है no cost EMI का। लेकिन सवाल ये है कि क्या वास्तव में no cost EMI  में कोई extra पैसा नहीं देना पड़ता। जानते हैं क्या है इसकी सच्चाई।

no cost EMI
No Cost EMI

 क्या है NO Cost EMI?

नो-कॉस्ट EMI में मूल रकम पर कोई इंटरेस्ट नहीं होता लेकिन इसका यह मतलब नहीं है कि आप केवल प्रोडक्ट की वास्तविक कीमत का भुगतान करेंगे। बहुत से लेंडर्स इस स्कीम के लिए एक प्रोसेसिंग फीस लेते हैं।

फेस्टिव सीजन के दौरान बहुत सी कंपनियां और रिटेलर्स आकर्षक ऑफर्स के साथ प्रोडक्ट्स बेचते हैं। इनमें नो-कॉस्ट इक्वेटेड मंथली इंस्टॉलमेंट्स (EMI) स्कीम्स भी शामिल होती हैं। नो-कॉस्ट EMI से कस्टमर्स बिना अतिरिक्त इंटरेस्ट या चार्ज के किश्तों पर प्रोडक्ट्स को खरीद सकते हैं।

ये काम कैसे करता है?

हालांकि, ऐसी खरीदारी करने से पहले आपको इस स्कीम के बारे में कुछ जानकारी होनी चाहिए। जब आप शॉपिंग के वक्त नो-कॉस्ट EMI या जीरो कॉस्ट EMI का ऑप्शन चुनते हैं तो आप केवल उस प्रोडक्ट के लिए मंथली इंस्टॉलमेंट्स का भुगतान करेंगे और उस पर कोई इंटरेस्ट या चार्ज नहीं होगा। इसका मतलब है कि आप केवल प्रोडक्ट की वास्तविक कीमत चुकाएंगे और उसे EMI में विभाजित किया जाएगा। बहुत से बैंक विभिन्न विकल्पों में नो-कॉस्ट EMI की सुविधा देते हैं।

शॉपिंग के वक्त बरतें सावधानी

कुछ लेंडर्स भी विशेष प्रोडक्ट्स पर जीरो डाउन पेमेंट की पेशकश करते हैं जिसमें आपको पहले कोई भुगतान करने की जरूरत नहीं होती और आप प्रोडक्ट के प्राइस को मासिक किश्तों में आसानी से चुका सकते हैं। दूसरी ओर, कुछ बैंक डाउन पेमेंट के तौर पर एक न्यूनतम रकम लेते हैं और बाकी की रकम का भुगतान EMI में करना होता है। नो-कॉस्ट EMI में आप जरूरत के अनुसार भुगतान की विभिन्न अवधियों को चुन सकते हैं। यह 3 महीने से 24 महीने तक हो सकती है। हालांकि, अगर यह स्कीम आपकी खरीदारी के लिए ठीक लग रही है तो भी आपको no cost EMI के हर पहलुओं को जान परख कर ही शॉपिंग करनी चाहिए।  

 

About Author

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *