Chhello Show: गांव के पढ़ने वाले बच्‍चे की फिल्म गई ऑस्‍कर के लिए, जानें कैसे बना वह इस फ‍िल्‍म का हीरो

Gujarati Film Chhello Show Nominated To Oscar

Gujarati Film Chhello Show Nominated To Oscar

Chhello Show: अभी हाल ही में गुजराती फ‍िल्‍म छेलो शो (Chhello Show) को भारत की ओर से ऑस्‍कर 2023 के लिए भेजा गया है जोकि आजकल सुर्खियों का विषय बनी हुई है | आपको बता दें कि यह गुजराती फ‍िल्‍म ऑस्‍कर की रेस में शामिल कई हिंदी फ‍िल्‍मों को पीछे छोड़ चुकी है । छेलो शो कल यानी शुक्रवार को सिनेमाघरों में रिलीज होने जा रही है । फ‍िल्‍म के किरदारों से जुड़ीं कई दिलचस्‍प जानकारियां सामने आई हैं । फ‍िल्‍म में अहम भूमिका न‍िभाने वाले भाविन रबारी की जिंदगी से जुड़ी कुछ बातें सामने आई हैं । आपको बता दें कि भाविन के पैरंट्स गरीब परिवार से ताल्‍लुक रखते हैं और उनके पिता ड्राइवर और मां हाउसवाइफ हैं । उनके पैरंट्स नहीं कहते थे कि भाविन फ‍िल्‍म में काम करे |

Gujarati Film Chhello Show

भाविन को कैसे मिला चांस फिल्म में काम करने का
दरअसल भाविन के स्‍कूल में कुछ लोग आए और उन लोगों ने क्‍लास के सभी बच्‍चों से बात करके उनसे उनके फेवरेट हीरो के बारे में पूछा । सभी बच्‍चों की तरह भाविन ने भी जवाब देते हुए कहा कि उन्हें अम‍िताभ बच्‍चन और टाइगर श्राफ बहुत ज्यादा पसंद हैं । स्‍कूल आए लोगों ने भाविन का फिल्म के लिए चयन कर लिया । इसके लिए उनसे बाल नहीं कटवाने को कहा गया था । कुछ दिन बाद स्‍कूल प्रिंसिपल ने भाविन को बताया कि एक रेजॉर्ट में उसे बुलाया गया है । उसके बाद भाविन को फ‍िल्‍म की शूटिंग के लिए कॉल आया । कास्टिंग डायरेक्‍टर ने भाविन को बताया कि तीन महीने के लिए फ‍िल्‍म से उसे पूरी तरह जुड़ना पड़ेगा | इस पर उनके पैरंट्स उन्‍हें फ‍िल्‍म में काम नहीं करने देना चाहते थे । हालांकि एक रिश्‍तेदार के समझाने पर भाविन के पैरंट्स ने उन्‍हें भेज दिया । इसके बावजूद परिवार के कुछ लोग भाविन के पैरंट्स को बोलते थे कि उसे गंदी जगह भेज रहे हो । इस पर भाविन की मां ने कहा था कि मेरे दो बच्‍चे हैं अगर एक चला भी गया तो मैं दूसरे को पढ़ाऊंगी ।

Gujarati Film Chhello Show

भाविन की फिल्म ऑस्‍कर के लिए नॉमिनेटेड
आपको बतादें कि भाविन अभी 8वीं क्लास में हैं । जब फ‍िल्‍म की शूटिंग शुरू हुई, तो वह 5वीं क्लास में थे । अपने स्‍कूल में फर्स्‍ट आते थे । 7वीं क्‍लास में वह सेकंड आए, तो दोस्‍तो ने भी सुनाया । कहा कि तू फ‍िल्‍म में जा रहा है, इसलिए सेकंड आया । उन्‍होंने बताया कि जब दोस्‍तों के साथ क्रिकेट खेलने जाते थे, तब कई लोग वहां पहुंचते थे और उनके साथ फोटो क्लिक करते थे । उन्होंने बताया कि वह पहले टिकटॉक पर वीडियो बना चुके हैं । भाविन के अनुसार फ‍िल्‍म से जुड़े लोग काफी अच्‍छे थे । एक दीदी उन्‍हें स्क्रिप्‍ट याद करने में मदद करती थीं और स्‍कूल होमवर्क भी करवा देती थीं । भाविन ने कहा है कि अगर ऑस्‍कर उनके गांव में आएगा, तो गांव का नाम रोशन हो जाएगा । भाविन ने बताया कि अपनी पहली फीस उन्‍होंने पापा को दे दी थी । उनमें से कुछ पैसों से भाविन ने एक साइकिल खरीदी । भाविन का कहना है कि उन्हे मुंबई जाने पर घर की बहुत याद आया करती है |

About Author

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *