रेगिस्तान के जहाज “ऊँट” Camel को खिलाया जाता है किंग कोबरा, कारण जान रह जाओगे दंग

why camel eats king cobra

why camel eats king cobra

रेगिस्तान का जहाज कहे जाने वाले ऊँट Camel को तो आप जानते ही हैं इसकी सवारी करना अलग ही आनंद देता है | इस पर बैठकर हम थोड़ा शाही फील करते हैं | ये पत्ते, पौधे, फल-फूल आदि खाते हैं । इनके शरीर का सबसे महत्वपूर्ण हिस्सा कूबड़ होता है, हां वही जो ऊपर की ओर उठा होता है । ऊंट यहीं पर चर्बी स्टोर करके रखते हैं और जब तेज गर्मी में भोजन-पानी मिलने की उम्मीद नहीं रह जाती तो इसी फैट की मदद से वे जिंदा रह पाते हैं । ऊंट बिना पानी पिए लंबे समय तक रह सकता है, लेकिन जब पीता है तो 100-150 लीटर तक गटक लेता है । आप जानकर हैरान रह जायेंगे कि लचक कर चलने वाले इस शानदार जानवर को सांप खिलाया जाता है | आइये जानते हैं इस वजह के बारे में |

This Is Why They Feed a Camel a Live Snake

ऊंट को होती है एक अजीब तरह की बीमारी
आपकी जानकारी के लिए बता दें कि ऊंट को एक अजीब तरह की बीमारी होती है । इसके चलते वे खाना-पीना छोड़ दिया करते हैं । उनका शरीर अकड़ने लगता है । मध्य पूर्व में ऐसी मान्यता है कि ऊंट का इलाज करने के लिए उसे जहरीला सांप खिलाना जरूरत होती है । ऐसी स्थिति में ऊंट के मालिक उसके मुंह को खोलकर जहरीला सांप उनके मुँह में डाल देते हैं | इसके ठीक बाद पानी डाल दिया जाता है जिससे वह सांप पेट में चला जाए । इसके पीछे वो लोग धार्मिक मान्यता मानते हैं । ऊंट की इस बीमारी को Hyam कहा जाता है जिसका मतलब ही “जिंदा सांप निगलना” होता है । लोगों का यह भी कहना है कि वैज्ञानिक इस रहस्यमय बीमारी के बारे में ज्यादा जानकारी नहीं जुटा पाए हैं, जिससे ऊंट का इलाज संभव हो । ऐसे में ऊंट मालिक को किंग कोबरा जैसे जहरीले सांप या पाइथन खिलाने के अलावा कोई और विकल्प नहीं रह जाता है |

why camel eats king cobra

एक्सपर्ट डॉक्टरों की इस पर टिप्पड़ीं
लोग ऐसा मानते हैं कि ऊँट को किंग कोबरा जैसे जहरीले सांप या पाइथन खिलाने के बाद इससे सांप का जहर ऊंट के शरीर में फैल जाता है । जब असर कम होने लगता है तो ऊंट भी ठीक होने लग जाता है । इसके बाद कुछ दिन में ऊंट पूरी तरह से चंगा हो जाता है । हालांकि इसका कोई वैज्ञानिक प्रमाण अभी तक सामने नहीं आया है । सोशल मीडिया पर आप देखेंगे तो ऐसे बहुत से वीडियो उपलब्ध हैं । जानवरों के एक्सपर्ट डॉक्टरों के अनुसार यह बीमारी ऊँट को कीड़े के काटने से होती है । वो मानते है कि ऊंटों में गर्भपात के साथ उनकी मौत भी हो सकती है । इसके लक्षण बुखार, आंखों से आंसू गिरना, एनीमिया, शरीर का फूलना, ऊर्जा की कमी आदि होते हैं | इसके लिए अगर ऊँट का इलाज न किया जाये तो Trypanosomiasis से ऊंट के मरने का खतरा बढ़ जाता है | एक्सपर्ट डॉक्टर इन बात को एक फजूल मानते हैं |

About Author

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *