NASA Supersonic Flight: नासा की सुपर सोनिक फ्लाइट X-59 पेश होने को तैयार, अब घंटो की दूरी होगी मिनटों में तय

NASA Supersonic Flight

NASA Supersonic Flight

NASA Supersonic Flight: आपकी जानकारी के लिए बता दें कि अमेरिकी अंतरिक्ष एजेंसी नासा (Nasa) अब फ्लाइट को एक सुपर-सीक्रेट फाइटर जेट की स्पीड से उड़ाना चाहता है | आपको बता दें कि सुपरसोनिक स्‍पीड उस स्‍पीड को कहा जाता है, जब कोई ऑब्‍जेक्‍ट ध्‍वन‍ि की गति से भी तेज उड़ता है । इनमें गोलियां, फाइटर एयरक्राफ्ट, स्‍पेस में लॉन्‍च किए जाने वाले रॉकेट आदि शामिल होते हैं । नासा की फ्लाइट की खास बात यह है कि उसमें सोनिक बूम नहीं सुनाई देगा । नासा ने कहा है कि रिसर्चर्स ने इस बात को समझा है कि विमान कैसे सोनिक बूम बनाते हैं । उनके मुताबिक हवाई जहाज के आकार में हेरफेर करके सोनिक बूम की तीव्रता को कम करने पर साइंटिस्‍ट कार्यरत हैं । इस काम को अंजाम देने के लिए एक विमान भी तैयार किया गया है, जिसे X-59 नाम दिया है ।

Now Delhi to Mumbai in 1 hour

इसकी मदद से दिल्‍ली से मुंबई की दूरी सिर्फ 1 घंटे में हो सकेगी पूरी
नासा ने एक फ्लाइट को सुपर-सीक्रेट फाइटर जेट की स्पीड से उड़ाने के लिए एक क्वेस्ट मिशन तैयार किया है, जिसका काम अपने आखिरी चरण में चल रहा है । सूत्रों की माने तो नासा अपने X-59 को प्रदर्शित करने का प्‍लान बना चुकी है । नई तकनीक हकीकत बनती है, तो भविष्‍य में इससे एविएशन इंडस्‍ट्री में बड़ी क्रांति आ सकती है । बहुत लंबी दूरी का सफर बहुत कम समय में पूरा होगा । यानी दिल्‍ली से मुंबई की दूरी सिर्फ 1 घंटे में पूरी हो सकेगी । इससे पहले सोनिक बूम वाली फ्लाइट आज से करीब 75 साल पहले सुनी गई थी । सोनिक बूम से मतलब उड़ान के दौरान आसमान से आने वाली गड़गड़ाहट की आवाज को कहते हैं । कहा जाता है कि वह सोनिक बूम, बेल एक्स-1 (Bell X-1) रॉकेट विमान से सुनाई दिया था जो ध्वनि की गति से भी तेज उड़ान भर रहा था । विमान 1200 किलोमीटर प्रति घंटे या उससे भी ज्‍यादा स्‍पीड पर था |

Delhi to Mumbai in 1 hour NASA Supersonic Flight

नासा द्वारा जल्दी बनेगा हकीकत सुपर सोनिक स्पीड का सपना
आपकी जानकारी के लिए बता दें कि उस समय के साइंटिस्‍ट बेल एक्स-1 (Bell X-1) रॉकेट जैसे विमानों की उड़ानों को आम बात जैसा बनाना चाहते थे, लेकिन उनसे आने वाले शोर यानी सोनिक बूम की वजह से ही जमीन पर ऐसी उड़ानों पर प्रतिबन्ध लगा दिया था । इसकी वजह शोर से संपत्तियों को पहुंचने वाला नुकसान था । बहरहाल, बदलती तकनीक के साथ इंजीनियर एक बार फ‍िर सुपरसोनिक स्‍पीड को आम विमानों में हकीकत बनते देखना चाहते हैं और इस बार उनकी तैयारी इससे आने वाले साउंड को बिल्कुल दबाने की है । इंजीनियर ऐसे विमान को कई कम्‍युनिटीज के ऊपर से उड़ाते हुए यह देखना चाहते हैं कि कम ध्‍वनि पर किस तरह से लोग इस पर रिएक्‍ट करेंगे |

About Author

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *