October 2, 2023

Crackers Ban In Delhi 2022: राजधानी में दिवाली पर जलाये पटाखे तो हो सकती है 6 महीने तक की जेल, दिल्ली सरकार के सख्त निर्देश

Crackers Ban In Delhi 2022

Crackers Ban In Delhi 2022

Crackers Ban In Delhi 2022: जैसा की हम सब जानते हैं कि आज पूरे भारत में दिवाली का त्योहार मनाया जा रहा है ऐसे में देश की राजधानी दिल्ली में पर्यावरण की चिंता को लेकर दिल्ली की केजरीवाल सरकार ने पटाखों पर प्रतिबंध लगा दिया है और “दिये जलाओ पटाखे नहीं” अभियान की शुरूआत कर दी है | दिल्ली के पर्यावरण मंत्री गोपाल राय ने बताया है कि पटाखों पर पूर्ण प्रतिबंध को लागू करवाने के लिए सरकार ने 408 टीमों का गठन किया है | राजस्व विभाग की 165 टीम, दिल्ली पुलिस की 210 टीम और डीपीसीसी की 33 टीम लगातार निगरानी करने में लगी हैं | आपको बता दें कि अभी तक 2917 किलोग्राम पटाखों को जब्त कर लिया गया है |

Crackers Ban In Delhi 2022

दिल्ली में दीए जलाओ पटाखे नहीं अभियान शुरू
आपको अवगत करा दें कि दिल्ली सरकार ने जन जागरूकता अभियान के लिए 21 अक्टूबर से “दीए जलाओ पटाखे नहीं” अभियान की शुरूआत कर दी है | इस दौरान जो लोग पटाखों के पूर्ण प्रतिबंद्ध का उल्लंघन करते पाए जाएंगे उनके खिलाफ एक्प्लोसिव एक्ट के सेक्शन 9B के तहत कार्रवाई होगी, जिसमें 5 हजार रूपए का जुर्माना और 3 साल की सजा का प्रावधान है साथ ही जो व्यक्ति पटाखे जलाते हुए पाए जाएंगे उसके खिलाफ आईपीसी की धारा 268 के तहत कार्रवाई की होगी, जिसके तहत 200 रूपए का जुर्माना और 6 महीने की सजा हो सकती है | गोपाल राय का कहना है कि पटाखों से होने वाला प्रदूषण बच्चों एवं बुजुर्गों के लिए बहुत ही घातक होता है और इसीलिए पटाखों के निर्माण, भंडारण, बिक्री (ऑनलाइन मार्केटिंग प्लेटफॉर्म के माध्यम से डिलीवरी सहित) और पटाखों को जलाने पर पूर्ण प्रतिबंध लगाया गया है |

Crackers Ban In Delhi 2022

दिल्ली के साथ साथ एनसीआर में भी पटाखे बैन
इससे निपटने के लिए दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल ने 15 प्वाइंट विंटर एक्शन प्लान की घोषणा की है जिसपर सरकार लगातार काम करेगी | उन्होंने कहा कि पिछले दिनों केन्द्रीय पर्यावरण मंत्री के साथ हुई मीटिंग में पटाखों पर प्रतिबद्ध से संबंधित मुद्दा उठाया गया था | आज भी मैं केन्द्रीय पर्यावरण मंत्री से निवेदन कर रहा हूं कि जिस प्रकार दिल्ली में पटाखों पर पूर्ण प्रतिबंद्ध लगाया गया है उसी प्रकार एनसीआर के राज्यों में भी प्रतिबंद्ध लगाना चाहिए | एनसीआर में छोड़े गए पटाखों का दुष्प्रभाव दिल्ली की हवा पर पड़ता है और दिवाली के अगले दिन दिल्लीवासियों को आंखों में जलन और सांस लेने में दिक्कतों का सामना करना पड़ता है | इसके लिए 408 टीमों का गठन किया गया है | जिसमें दिल्ली पुलिस के एसीपी रैंक के अधिकारियों के नेतृत्व में 210 टीम, रेवन्यु विभाग की 165 तथा डीपीसीसी की 33 टीमें शामिल हैं | ये टीमें पूरी दिल्ली में इस दौरान लगातार निगरानी में लगी हैं |

About Author

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *