Google CCI Fine: CCI ने दिए Google को सुधरने के सख्त निर्देश, देनी होगा अब थर्ड-पार्टी पेमेंट्स का ऑप्शन

Google CCI Fine

Google CCI Fine

Google CCI Fine: जैसा की हम सब जानते हैं कि कुछ दिनों से इंटरनेट सर्च से जुड़ी Google के कारोबारी तरीकों को लेकर भारत में कड़ी स्क्रूटनी की जा रही है । गूगल को चलाने वाली अमेरिकी कंपनी Alphabet को ऐप डिवेलपर्स के लिए देश में थर्ड-पार्टी बिलिंग या पेमेंट प्रोसेसिंग सर्विसेज की अनुमति देने का आदेश दिया गया है । कॉम्पिटिशन कमीशन ऑफ इंडिया (CCI) ने कॉम्पिटिशन के खिलाफ तरीकों का इस्तेमाल करने के चलते कंपनी पर लगभग 932 करोड़ रुपये का जुर्माना फिर से लगा दिया है । इससे पहले भी गूगल पर Android ऑपरेटिंग सिस्टम से जुड़े गलत कारोबारी तरीकों के लिए लगभग 1,338 करोड़ रुपये का जुर्माना लगाया जा चुका है | CCI ने 199 पेज के ऑर्डर में कहा कि गूगल ने अपनी दबदबे वाली स्थिति का गलत इस्तेमाल करते हुए ऐप डिवेलपर्स को कंपनी के इन-ऐप पेमेंट सिस्टम का इस्तेमाल करने के लिए मजबूर किया है ।

Google CCI Fine

इसे भी पढ़ें- WhatsApp, Google Meet से फ्री कॉल जल्द होगी बंद, जानें

CCI का गूगल को तीन महीनों का अल्टीमेटम, आठ सुधार के दिए निर्देश
कॉम्पिटिशन कमीशन ऑफ इंडिया ने कहा है कि डिवेलपर्स के लिए अपने कार्य से कमाने का एक बड़ा जरिया इन-एप डिजिटल गुड्स की बिक्री करना होता है । इसके अलावा गूगल को तीन महीनों के अंदर आठ सुधार करने के लिए कहा गया है । इनमें इन-ऐप परचेज या ऐप्स परचेज करने के लिए ऐप डिवेलपर्स को किसी थर्ड-पार्टी बिलिंग या पेमेंट प्रोसेसिंग सर्विसेज का इस्तेमाल करने से नहीं रोकना शामिल है । इस फैसले के खिलाफ गूगल की ओर से ट्राइब्यूनल में अपील की जा सकती है । CCI का कहना है कि गूगल को ऐप डिवेलपर्स के साथ कम्युनिकेशन में पूरी पारदर्शिता रखनी चाहिए और उन्हें वसूली जाने वाली सर्विस फीस के बारे में ऐप डिवेलपर्स को पूरी विस्तृत जानकारी साझा करनी चाहिए ।

Google CCI Fine

इसे भी पढ़ें- क्या आपका WhatsApp, Facebook और Gmail कोई और यूज कर रहा है? ऐसे लगाइए पता

Google का CCI के फैंसले पर जबाब
कॉम्पिटिशन कमीशन ऑफ इंडिया का मानना है कि इस ऑर्डर से देश के स्टार्टअप्स और उन फर्मों को राहत मिलेगी जो ऐप डिवेलपर्स के लिए गूगल के पेमेंट्स सिस्टम का इस्तेमाल करने के लिए मजबूर किए जाने पर आपत्ति जता रहे थे । कंपनी के खिलाफ देश के स्मार्ट टीवी मार्केट में भी कारोबार करने के तरीके को लेकर एक अलग जांच चल रही है । Google ने पिछले सप्ताह कंपनी पर लगाए गए जुर्माने के बारे में कहा था कि यह देश में कंज्यूमर्स और बिजनेस के लिए एक “बड़ा झटका” है । गूगल का कहना था कि Android ने लोगों को अधिक विकल्प दिए हैं और यह भारत और दुनिया भर में हजारों सफल बिजनेस को सपोर्ट देता है । गूगल के प्रवक्ता ने ईमेल से दिए स्टेटमेंट में कहा है कि CCI का फैसला भारत में कंज्यूमर्स और बिजनेस के लिए एक बड़ा झटका है । इससे ऐसे लोगों के लिए सिक्योरिटी से जुड़े रिस्क होंगे जो एंड्रॉयड के सिक्योरिटी फीचर्स पर आँख बंद कर विश्वास किया करते हैं |

About Author

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *