ISRO LVM3: ISRO पूरी दुनिया को चौकाने की तैयारी में, इसरो ने किया सबसे पावरफुल रॉकेट के इंजन का सफल परिक्षण

ISRO LVM3

ISRO LVM3

ISRO LVM3: आपको यह जानकर बेहद गर्व महसूस होगा कि भारत की स्‍पेस एजेंसी इसरो (ISRO) ने देश के सबसे शक्तिशाली रॉकेट LVM-3 (लॉन्च वीकल मार्क 3) के लिए स्वदेशी रूप से विकसित क्रायोजेनिक इंजन का सफलतापूर्वक परीक्षण कर लिया है । आपको जाकर हैरानी होगी कि इस इंजन की सफल टेस्टिंग के बाद अब LVM-3 की पेलोड क्षमता 450 किलोग्राम तक बढ़ गई है । बता दें कि LVM-3 के लिए CE20 क्रायोजेनिक इंजन को देश में ही विकस‍ित किया गया है । 9 नवंबर को पहली बार 21.8 टन के अपरेटेड थ्रस्ट स्तर पर एक सफल टेस्टिंग हुई । इसरो का कहना है कि टेस्टिंग के दौरान इंजन ने सामान्‍य प्रदर्शन किया और सभी जरूरी मापदंडों पर खरा उतरा । बता दें कि एलवीएम 3, दो ठोस मोटर स्ट्रैप-ऑन, एक तरल प्रणोदक कोर चरण और एक क्रायोजेनिक चरण के साथ तीन-चरणीय वाहन है, जो जियोसिंक्रोनस स्थानांतरण कक्षा में चार-टन वर्ग के उपग्रह को ले जा सकता है ।

ISRO LVM3

इसे भी पढ़ें- 2035 तक भारत बनायेगा अपना अंतरिक्ष स्‍टेशन, अब भारत देगा Nasa और चीन को भी टक्कर

पूरी दुनिया को चौकाने की तैयारी में इसरो
आपकी जानकारी के लिए बता दें कि पिछले इंजन के मुकाबले इस बार की गई टेस्टिंग में प्रमुख संशोधनों में नियंत्रण के लिए थ्रस्ट कंट्रोल वॉल्व (TCV) की शुरूआत हुई है । इसके अलावा, 3D प्रिंटेड एलओएक्स और एलएच2 टर्बाइन एग्जॉस्ट केसिंग को पहली बार इंजन में इस्तेमाल में लिया गया है । इसरो अपने मिशन से पूरी दुनिया को चौका रहा है । हाल ही में इसकी कमर्शियल यूनिट न्यूस्पेस इंडिया लिमिटेड (NSIL) ने आंध्र प्रदेश के श्रीहरिकोटा में सतीश धवन स्पेस सेंटर से OneWeb के 36 ब्रॉडबैंड सैटेलाइट्स को भी लॉन्च किया था । बता दें कि लो अर्थ ऑर्बिट सैटेलाइट कम्युनिकेशंस फर्म OneWeb में भारती ग्लोबल सबसे बड़ी इनवेस्टर के रूप में सामने आई है | यह ऐसा पहला ऑर्डर था जिसमें LVM3 रॉकेट का इस्तेमाल किया गया था |

ISRO LVM3

इसे भी पढ़ें- क्या आपका WhatsApp, Facebook और Gmail कोई और यूज कर रहा है? ऐसे लगाइए पता

इसरो के पहले मानव अंतरिक्ष यान की हुई सफल टेस्टिंग
OneWeb ने जानकारी दी है कि वह अगले वर्ष तक पूरे देश में हाई-स्पीड कनेक्टिविटी उपलब्ध कराने की योजना बना रही है । OneWeb के लिए यह 14वां और इस वर्ष का दूसरा लॉन्च था । इससे अब फर्म के सैटेलाइट्स की कुल संख्या बढ़कर 462 हो गई है । यह इसकी 648 लो अर्थ ऑर्बिट सैटेलाइट रखने की योजना का 70 प्रतिशत से अधिक माना जा रहा है । इसके अलावा, इसरो अपने तीसरे मून मिशन को लॉन्‍च करने की तैयारी में है । जानकारी मिली है कि अगले साल जून में चंद्रयान-3 (Chandrayaan-3) को भी लॉन्‍च किया जाएगा । यह चंद्रमा की सतह पर खोज को लेकर महत्‍वपूर्ण अभियान होगा । इसरो अगले साल की शुरुआत में देश के पहले मानव अंतरिक्ष यान गगनयान (Gaganyaan) के लिए एबॉर्ट मिशन की पहली टेस्‍ट फ्लाइट की भी तैयारी में लगा है |

About Author

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *