Dengue Alert: 17 नवंबर से होंगे हर जिले में डेडिकेटेड डेंगू अस्पताल, मुख्य मंत्री ने दिए सख्त निर्देश

Dengue High Alert

Dengue High Alert

Dengue Alert: जैसा की हम जानते हैं कि डेंगू एक खतरनाक बीमारी है जिससे हर साल कई हजार लोग मर जाते हैं | इस बीमारी की गंभीरता को देखते हुए अब यूपी के सभी जिलों में कोविड की तर्ज पर 17 नवंबर से डेडिकेटेड डेंगू अस्पताल शुरू होने जा रहे हैं | बता दें कि इन पर फिजीशियन और बाल रोग चिकित्सक की तैनाती अनिवार्य रहेगी । जिस डेंगू अस्पताल में ये दोनों चिकित्सक नहीं होंगे, वहां के लिए आसपास तैनात चिकित्सकों को संबद्ध करने के निर्देश दिए जा चुके हैं । इसके अलावा हर अस्पताल में एक नोडल अधिकारी भी होगा जोकि बेड की उपलब्धता से लेकर भर्ती व रेफर होने वाले मरीज और मरने वालों की रोज रिपोर्ट तैयार करेगा |

Dengue High Alert In UP

इसे भी पढ़ें- बस कर लें यह छोटा सा काम, 25 साल तक नहीं आएगा बिजली का बिल, यहां जानें

डेडिकेटेड डेंगू अस्पताल शुरू करने के निर्देश हुए जारी
आपको बता दें कि प्रदेश में डेंगू के बढ़ते मामलों पर बीते दिनों मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने डेडिकेटेड डेंगू अस्पताल शुरू करने के निर्देश जारी किये हैं | जिसके बाद पूर्व में चिह्नित कोविड चिकित्सालयों को डेंगू चिकित्सालय में बदल दिया गया है | साथ ही इन तब्दील हुए अस्पतालों में रोगियों के उपचार के लिए पर्याप्त दवाएं, ओआरएस व आईवी फ्लूड्स की उपलब्धता सुनिश्चित करने के निर्देश भी जारी किये हैं | इसके अलावा सभी सीएमओ व सीएमएस को भी निर्देश दिए हैं कि डेडिकेटेड अस्पतालों में ड्यूटी के लिए तीन सत्रों में रोस्टर बनाया जाए जिससे जरूरत के मुताबिक मानव संसाधन की तैनाती हो सके | इसके अलावा सभी छात्रों को पूरी बांह की शर्ट एवं फुल पैंट पहनकर विद्यालय आने का निर्देश भी जारी किया गया है ।

Dengue High Alert

इसे भी पढ़ें- यदि आपके पास हैं ये चीजें तो आपको नहीं मिलेगा फ्री राशन, जानें सरकार का यह नया नियम

उपमुख्यमंत्री ने भी उठाये इस पर सख्त कदम
आपकी जानकारी के लिए बता दें कि उपमुख्यमंत्री ने भी कहा है कि प्रदेश में देर तक बारिश होने की वजह से डेंगू मरीज बढ़ने की संभावना है, ऐसे में सभी मंडलीय एवं जनपदीय चिकित्साधिकारियों तथा चिकित्सा अधीक्षक जिलों में चिकित्सकीय व्यवस्थाएं और सुदृढ़ कर लें । डेंगू पीड़ित अपनी सुविधा के अनुसार किसी भी चिकित्सालय में उपचार के लिए जा सकते हैं और भर्ती भी हो सकेंगे । उनका कहना था कि नामित डेंगू चिकित्सालय की निकटवर्ती टर्शियरी केयर चिकित्सालय से टेलिमेडिसिन से जोड़ी जाए ताकि रोग प्रबंधन के दौरान जटिलता की स्थिति उत्पन्न होने पर विशेषज्ञों से परामर्श उपलब्ध करने सुगमता हो | जिससे इस गंभीर बिमारी से लड़ने में ख़ासा मदद मिल पाए |

About Author

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *