Plastic Rain: हो जाइये सावधान! अब हो रही दुनिया में प्‍लास्टिक रेन, वैज्ञानिक भी हैं हैरान

Be careful! Now plastic rain is happening in the world

Be careful! Now plastic rain is happening in the world

Plastic Rain: अभी हाल ही में एक ऐसा मामला सामने आया है जिसे सुनकर आप भी हैरान रह जायेंगे, दुनिया में आपने पानी बरसना तो सुना होगा लेकिन क्या आपने प्लास्टिक की बारिश के बारे में कहीं सुना है या देखा है | अगर नहीं सुना तो हम आपको बताते हैं इसी से जुड़ा एक मामला जो न्यूजीलैंड में सामने आया है जहां प्लास्टिक की बारिश हुई है | वैज्ञानिकों की एक स्टडी की मानें तो साल 2020 में न्यूजीलैंड के ऑकलैंड शहर में लगभग 74 मीट्रिक टन माइक्रोप्लास्टिक (microplastics) के बारिश का मामला सामने आया था | ऐसा बताया जा रहा है कि यह बारिश लगभग प्लास्टिक की 30 लाख बोतलों के बराबर है | आइये जानते हैं ऐसा आखिर क्यों हुआ और कैसे हुआ |

Be careful! Now plastic rain is happening in the world

यह है प्लास्टिक रेन का मुख्य कारण
आपको बता दें कि न्यूजीलैंड के ऑकलैंड शहर में हुई प्लास्टिक की बारिश पर चली 9 हफ्तों की स्टडी में पता चला है कि इस शहर के हर घर की छत में हर वर्ग मीटर पर 5 हजार से ज्यादा माइक्रोप्लास्टिक मौजूद रहता है | उन्होंने इस स्टडी में पता लगाया तो इसका मुख्य कारण पैकेजिंग मटीरियल से होने वाला प्रदूषण है | क्योंकि इसमें यूज होने वाला पॉलीएथिलीन एक तरह का माइक्रोप्लास्टिक है और यह एक प्रमुख मुद्दा है जिसकी वजह से बारिश के पानी, हमारी फूड चेन और महासागरों में भी मौजूद है |

इसे भी पढ़ें- पृथ्वी पर मौजूद 60 लाख झीलों की होगी निगरानी, NASA का यह सैटेलाइट करेगा इसमें मदद
इसे भी पढ़ें- इस देश ने बना डाला दुनिया का सबसे एडवांस एयरक्राफ्ट, कर देगा दुश्मन के रडार को भी फेल
इसे भी पढ़ें- अंतरिक्ष में मची है हाहाकार, मरते हुए तारे और ब्‍लैक होल के बीच हुई भयानक टक्कर

भारत पर भी मंडरा रहा इस तरह की बारिश का खतरा
स्टडी बताती है कि इन प्लास्टिक के कणो को नंगी आँखों से नहीं देख सकते | इस तरह का प्लास्टिक हमारे रोजमर्रा में यूज हो रहे सामानो में मौजूद है जो कि पानी में मिलने के बाद वेस्‍टवॉटर के रूप में ये नदियों से होते हुए समुद्र में पहुंचते हैं और फ‍िर बारिश के रूप में हमारी धरती पर बरसते हैं | ऑकलैंड के बाद अब इसका असर भारत समेत पूरी दुनिया पर मंडरा रहा है | स्टडी बताती है कि अगर न्‍यूजीलैंड में माइक्रोप्‍लास्टिक आसमान से जमीन पर पहुंच रहे हैं, तो भारत जैसे देश में इसका दायरा और अधिक हो सकता है |

About Author

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *