Mahashivratri 2023: महाशिवरात्रि पर रुद्राभिषेक करने से होगा ये बड़ा चमत्कार, करना होगा ये काम

Shivratri 2023

Shivratri 2023

Mahashivratri 2023, Rudrabhishek Benefits and Importance: धर्म ग्रंथो में बताया गया है फाल्गुन मास की चतुर्दशी को भगवान भोले नाथ की पूजा अर्चना का पर्व महाशिवरात्रि मनाई जाती है। इस साल यानी 2023 में महाशिवरात्रि 18 फरवरी को पड़ रही है। हिंदी पंचांग के अनुसार इस बार महाशिवरात्रि शनिवार के दिन पड़ रही है, इसी दिन शनि प्रदोष भी पड़ रहा है। इन दोनों योगों का विशेष महत्व बताया जा रहा है, ऐसे में इस वर्ष की महाशिवरात्रि पर व्रत और पूजा करने से विशेष फल प्राप्ति होगी।

महाशिवरात्रि 2023
महाशिवरात्रि 2023

पौराणिक गाथा के अनुसार महाशिवरात्रि के दिन ही देवाधिदेव का माता पार्वती से विवाह हुआ था। जानकार बताते हैं महाशिवरात्रि के दिन विशेष मुहूर्त पर यदि रुद्राभिषेक किया जाए तो सभी मनोकामनाएं पूरी होती है, क्योंकि रुद्राभिषेक करने से भगवान शिव प्रसन्न होते हैं, महाशिवरात्रि अवसर पर यदि रुद्राभिषेक किया जाए तो इसका विशेष लाभ मिलता हैं।

महाशिवरात्रि 2023
महाशिवरात्रि 2023

कैसे करते हैं रुद्राभिषेक

रुद्राभिषेक दो वाक्यों से ल कर बना है पहला रुद्र और दूसरा वाक्य अभिषेक है इन दोनों के मिलने से बना है रुद्रभिषेक, रुद्राभिषेक का मतलब भगवान रुद्र का अभिषेक करना या स्नान कराना। रुद्राभिषेक करने के लिए दूध, जल, घी, दही, शहद जैसे पवित्र द्रव्यों का उपयोग किया जाता है। कहते हैं रुद्रभिषेक करने से मनवांच्छित फल मिलता है। इससे भगवान शंकर प्रसन्न होते हैं और उनकी बनी रहती है।

इसे भी देखेंNew Year Astro Tips: नए साल 2023 में खुल जाएंगे उन्नति के द्वार, बस कर ले यह छोटा सा काम

इसे भी देखेंDhan Prapti Tips: नए साल पर कर लें लौंग के ये आसान से 4 उपाय, पूरे साल होगी धन वर्षा

इसे भी देखेंVastu Tips 2023: नए साल के शुरुआत में ही कर लें ये दो छोटे से काम, खुल जायेंगे धन के द्वार

रुद्राभिषेक करना का महत्व

रुतम्-दु:खम, द्रावयति- नाशयतीतिरुद्र: इसका हिंदी में अर्थ होता है रुद्राभिषेक से हे नाथ सभी दु:खों का नाश करें। इंसानों के द्वारा किए गए पापों का फल दुख देने वाला होता है,और ऐसे पाप से मुक्ति के लिए रुद्राभिषेक करना काफी अच्छा होता है इससे कुंडली में पातक कर्म और महापातक कर्म भी दूर होते हैं। और हृदय में शिवत्व का उदय होता है। हिन्दू धर्म के पवित्र ग्रंथ रुद्रहृदयोपनिषद में वर्णन है कि, ‘सर्वदेवात्मको रुद: सर्वे देवा: शिवात्मका’, इसका अर्थ है रुद्र सभी देवताओं की आत्मा में उपस्थित हैं और सभी देवता रुद्र की आत्मा में। यही कारण है कि रुद्राभिषेक करने से इसका शीघ्र फल प्राप्त होता है और तमाम परेशानियों और ग्रह दोष भी छुटकारा मिलता है।

महाशिवरात्रि पर रुद्राभिषेक करने से लाभ

  • महाशिवरात्रि पर जल से अभिषेक करने से वर्षा होती है.
  • कुशोदक से रुद्राभिषेक करने से रोग दूर होते हैं.
  • दही से रुद्राभिषेक करने पर भवन और वाहन की प्राप्ति होती है.
  • महाशिवरात्रि पर धनवृद्धि के लिए शहद-घी से अभिषेक करें.
  • यदि इत्र मिश्रित जल से अभिषेक करते हैं तो हैं बीमारियां दूर होती है.
  • संतान प्राप्ति के लिए महाशिवरात्रि के दिन गाय के दूध से अभिषेक करें.
  • गाय के दूध में घी मिलाकर अभिषेक करने से आरोग्य जीवन की प्राप्ति होती है.
  • महाशिवरात्रि पर सरसों से तेल से अभिषेक करने पर शत्रुओं का नाश होता है.

About Author

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *